Rahat Indori Shayari

Rahat Indori Shayari in Hindi, Rahat indori Quotes, Rahat Indori Poetry Latest Dr Rahat Indori Shayari in Hindi - Rahat Indori Sher | Best shayari of rahat indori | Rahat Indori Hindi Shayari

Find Best Shayari by Rahat Indori Shayari of 2020 Year, This rahat indori shayari in hindi is best rahat indori shayar collection like very Famous kisi ke baap ka hindustan shayari and more rahat indori shayari on politics,
Rahat Indori famous kisi ke baap ka hindustan shayari
Rahat Indori Hindi Shayari image


ये हादसा तो किसी दिन ,
गुज़रने वाला था
मैं बच भी जाता तो ,
इक रोज़ मरने वाला था

Ye Haadasa To Kisee Din ,
Guzarane Vaala Tha
Main Bach Bhee Jaata To ,
Ik Roz Marane Vaala Tha

अब जो बाज़ार में रखे हो तो हैरत क्या है
जो भी देखेगा वो पूछेगा की कीमत क्या है
एक ही बर्थ पे दो साये सफर करते रहे
मैंने कल रात यह जाना है कि जन्नत क्या है

Ab Jo Baazaar Mein Rakhe Ho To Hairat Kya Hai
Jo Bhee Dekhega Vo Poochhega Kee Keemat Kya Hai
Ek Hee Barth Pe Do Saaye Saphar Karate Rahe
Mainne Kal Raat Yah Jaana Hai Ki Jannat Kya Hai

मोड़ होता है जवानी का सँभलने के लिए
और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूं हैं

Mod Hota Hai Javaanee Ka Sanbhalane Ke Lie
Aur Sab Log Yaheen Aa Ke Phisalate Kyoon Hain

शहर में जाकर पढ़ने वाले भूल गए
किसकी माँ ने कितना ज़ेवर बेचा था

Shahar Mein Jaakar Padhane Vaale Bhool Gae
Kisakee Maan Ne Kitana Zevar Becha Tha

आँखों में पानी रखों, होंठो पे चिंगारी रखो
जिंदा रहना है तो तरकीबे बहुत सारी रखो
राह के पत्थर से बढ के, कुछ नहीं हैं मंजिलें
रास्ते आवाज़ देते हैं, सफ़र जारी रखो

Aankhon Mein Paanee Rakhon, Hontho Pe Chingaaree Rakho
Jinda Rahana Hai To Tarakeebe Bahut Saaree Rakho
Raah Ke Patthar Se Badh Ke, Kuchh Nahin Hain Manjilen
Raaste Aavaaz Dete Hain, Safar Jaaree Rakho

Rahat Indori Hindi Shayari
कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया
अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया
मौसमो का ख़याल रखा करो
कुछ लहू मैं उबाल रखा करो
लाख सूरज से दोस्ताना हो
चंद जुगनू भी पाल रखा करो

Kashtee Tera Naseeb Chamakadaar Kar Diya
Is Paar Ke Thapedon Ne Us Paar Kar Diya
Aphavaah Thee Kee Meree Tabiyat Kharaab Hain
Logo Ne Poochh Poochh Ke Beemaar Kar Diya
Mausamo Ka Khayaal Rakha Karo
Kuchh Lahoo Main Ubaal Rakha Karo
Laakh Sooraj Se Dostaana Ho
Chand Juganoo Bhee Paal Rakha Karo

जाने कौन सी, भाषा बोलती हैं उसकी आँखे?
हर लफ्ज़ कलेजे में उतर जाता है
 
Jaane Kaun See, Bhaasha Bolatee Hain Usakee Aankhe?
Har Laphz Kaleje Mein Utar Jaata Hai

सच  बिकता  है  ,
झूठ  बिकता  है ,
बिकती है हर  कहानी ,
तीन  लोक  में फैला है ,
फिर भी बिकता  है
बोतल में पानी
 
Sach  Bikata  Hai  ,
Jhooth  Bikata  Hai ,
Bikatee Hai Har  Kahaanee ,
Teen  Lok  Mein Phaila Hai ,
Phir Bhee Bikata  Hai
Botal Mein Paanee

तेरे पास ना होते हुए भी वख्त गुज़ार रहा हूँ तेरी मोह्हबत में,
इस से ज़्यादा और क्या सबूत दूँ तुझे अपनी चाहत का
 
Tere Paas Na Hote Hue Bhee Vakht Guzaar Raha Hoon Teree Mohhabat Mein,
Is Se Zyaada Aur Kya Saboot Doon Tujhe Apanee Chaahat Ka

कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूंगा उसे
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उसे
मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उस का
इरादा मैं ने किया था कि छोड़ दूँगा उसे
बदन चुरा के वो चलता है मुझ से शीशा-बदन
उसे ये डर है कि मैं तोड़ फोड़ दूँगा उसे
पसीने बाँटता फिरता है हर तरफ़ सूरज
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूँगा उसे
मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूँगा उसे
 
Kaheen Akele Mein Mil Kar Jhinjhod Doonga Use
Jahaan Jahaan Se Vo Toota Hai Jod Doonga Use
Mujhe Vo Chhod Gaya Ye Kamaal Hai Us Ka
Iraada Main Ne Kiya Tha Ki Chhod Doonga Use
Badan Chura Ke Vo Chalata Hai Mujh Se Sheesha-badan
Use Ye Dar Hai Ki Main Tod Phod Doonga Use
Paseene Baantata Phirata Hai Har Taraf Sooraj
Kabhee Jo Haath Laga To Nichod Doonga Use
Maza Chakha Ke Hee Maana Hoon Main Bhee Duniya Ko
Samajh Rahee Thee Ki Aise Hee Chhod Doonga Use

तू बदनाम ना हो इसलिए जी रहा हूँ मैं,
वरना मरने का इरादा तो रोज होता है।
 
Too Badanaam Na Ho Isalie Jee Raha Hoon Main,
Varana Marane Ka Iraada To Roj Hota Hai.

चलता आ रहा था सिलसिला प्यार में बर्बाद होने का
भीड़ देखकर हम भी शामिल हो गए साहब
 
Chalata Aa Raha Tha Silasila Pyaar Mein Barbaad Hone Ka
Bheed Dekhakar Ham Bhee Shaamil Ho Gae Saahab

निकलूं अगर मयखाने से तो शराबी ना समझना दोस्त,
मंदिर से निकलता हर शख्स भी तो भक्त नहीं होता 

Nikaloon Agar Mayakhaane Se To Sharaabee Na Samajhana Dost,
Mandir Se Nikalata Har Shakhs Bhee To Bhakt Nahin Hota

इंसान नीचे बैठा दौलत गिनता है
कल इतनी थी आज इतनी बढ गयी
ऊपर वाला हंसता है
और इंसान की सांसे गिनता है
कल इतनी थीं
आज इतनी कम हो गयीं
 
Insaan Neeche Baitha Daulat Ginata Hai
Kal Itanee Thee Aaj Itanee Badh Gayee
Oopar Vaala Hansata Hai
Aur Insaan Kee Saanse Ginata Hai
Kal Itanee Theen
Aaj Itanee Kam Ho Gayeen

ख़ुश मिजाज़ी भी मशहूर थी हमारी सादगी भी कमाल थी
हम शरारती भी बेइंतहा से थे और अब संजीदा भी बेमिसाल हैं

Khush Mijaazee Bhee Mashahoor Thee Hamaaree Saadagee Bhee Kamaal Thee
Ham Sharaaratee Bhee Beintaha Se The Aur Ab Sanjeeda Bhee Bemisaal Hain

मुझ पर तू जो सितम करता है बेवफा समझकर
मैं भुला देता हूँ वो सब कुछ तुझे खुदा समझकर

Mujh Par Too Jo Sitam Karata Hai Bevapha Samajhakar
Main Bhula Deta Hoon Vo Sab Kuchh Tujhe Khuda Samajhakar

मैं इश्क़ हूँ तुम ज़िंदगी मेरी,
मैं लफ़्ज़ हूँ तुम बंदगी मेरी,
मैं रिश्ता हूँ तुम वादा कोई,
मैं ज़ुनुन हूँ तुम दिवानगी मेरी

Main Ishq Hoon Tum Zindagee Meree,
Main Lafz Hoon Tum Bandagee Meree,
Main Rishta Hoon Tum Vaada Koee,
Main Zunun Hoon Tum Divaanagee Meree

नज़र और नसीब का कुछ ऐसा इत्तफाक है कि
नज़र को अक्सर वही चीज़ पसन्द आती है जो नसीब मेँ नहीं होती

Nazar Aur Naseeb Ka Kuchh Aisa Ittaphaak Hai Ki
Nazar Ko Aksar Vahee Cheez Pasand Aatee Hai Jo Naseeb Men Nahin Hotee

बिछड़ के तुमसे ज़िन्दगी सज़ा लगती है
ये सांस भी जैसे मुझसे ख़फ़ा लगती है
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किससे करूँ
मुझको तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफा लगती है.
 
Bichhad Ke Tumase Zindagee Saza Lagatee Hai
Ye Saans Bhee Jaise Mujhase Khafa Lagatee Hai
Agar Ummeed-e-vafa Karoon To Kisase Karoon
Mujhako To Meree Zindagee Bhee Bevapha Lagatee Hai.

जिन्हें महसूस इंसानों के रंजो-गम नहीं होते,
वो इंसान भी हरगिज पत्थरों से कम नहीं होते...

Jinhen Mahasoos Insaanon Ke Ranjo-gam Nahin Hote,
Vo Insaan Bhee Haragij Pattharon Se Kam Nahin Hote...

अंदाज़ निगाहों के जुबां पे आयेगा,
उस दिन तुम्हे चेहरा हमरा याद आयेगा
पछताओगे तुम उस दिन, जिस दिन
ये हमसफ़र जहाँ से चला जायेगा
 
Andaaz Nigaahon Ke Jubaan Pe Aayega,
Us Din Tumhe Chehara Hamara Yaad Aayega
Pachhataoge Tum Us Din, Jis Din
Ye Hamasafar Jahaan Se Chala Jaayega

भंवर से निकलकर किनारा मिला है,
जीने को फिर से एक सहारा मिला है,
बहुत कशमकश में थी ये ज़िंदगी मेरी,
उस ज़िंदगी में अब साथ तुम्हारा मिला है।

Bhanvar Se Nikalakar Kinaara Mila Hai,
Jeene Ko Phir Se Ek Sahaara Mila Hai,
Bahut Kashamakash Mein Thee Ye Zindagee Meree,
Us Zindagee Mein Ab Saath Tumhaara Mila Hai.

कदर कर लो उनकी जो तुमसे,
बिना मतलब की चाहत करते है,
दुनिया मे ख्याल रखने वाले कम,
और तकलीफ देने वाले ज्यादा होते है

Kadar Kar Lo Unakee Jo Tumase,
Bina Matalab Kee Chaahat Karate Hai,
Duniya Me Khyaal Rakhane Vaale Kam,
Aur Takaleeph Dene Vaale Jyaada Hote Hai
कश्ती है पुरानी मगर दरिया बदल गया,
मेरी तलाश का भी तो जरिया बदल गया,
ना शक्ल बदली ना अक्ल बदली,
बस लोगों के देखने का नजरिया बदल गया।

Kashtee Hai Puraanee Magar Dariya Badal Gaya,
Meree Talaash Ka Bhee To Jariya Badal Gaya,
Na Shakl Badalee Na Akl Badalee,
Bas Logon Ke Dekhane Ka Najariya Badal Gaya.

तुझे खोना भी मुश्कील है, तुझे पाना भी मुश्कील है.
जरा सी बात पर आंखें भीगो के बैठ जाते हो,
तुझे अब अपने दील का हाल बताना भी मुश्किल है,
उदासी तेरे चहरे पे गवारा भी नहीं लेकीन,
तेरी खातीर सीतारे तोड़ कर लाना भी मुश्कील है,

Tujhe Khona Bhee Mushkeel Hai, Tujhe Paana Bhee Mushkeel Hai.
Jara See Baat Par Aankhen Bheego Ke Baith Jaate Ho,
Tujhe Ab Apane Deel Ka Haal Bataana Bhee Mushkil Hai,
Udaasee Tere Chahare Pe Gavaara Bhee Nahin Lekeen,
Teree Khaateer Seetaare Tod Kar Laana Bhee Mushkeel Hai,

एक दिन जब हम दुनिया से चले जायेंगे ,
मत सोचना हम आपको भूल जायेंगे,
बस एक बार आसमान के तरफ देखना,
मेरे पैगाम सितारों पर लिखे नज़र आएंगे…
न किसी का फेंका हुआ मिले,
न किसी से छिना हुआ मिले,
मुझे बस मेरे नसीब में, लिखा हुआ मिले,
ना मिला ये भी, तो कोई गम नहीं,
मुझे बस मेरी मेहनत का, किया हुआ मिले.

Ek Din Jab Ham Duniya Se Chale Jaayenge ,
Mat Sochana Ham Aapako Bhool Jaayenge,
Bas Ek Baar Aasamaan Ke Taraph Dekhana,
Mere Paigaam Sitaaron Par Likhe Nazar Aaenge…
Na Kisee Ka Phenka Hua Mile,
Na Kisee Se Chhina Hua Mile,
Mujhe Bas Mere Naseeb Mein, Likha Hua Mile,
Na Mila Ye Bhee, To Koee Gam Nahin,
Mujhe Bas Meree Mehanat Ka, Kiya Hua Mile.

नफरत को मोहब्बत की आँखों में देखा,
बेरुखी को उनकी अदाओं में देखा,
आँखें नम हुईं और मैं रो पड़ा…
जब अपने को गैरों की बाहों में देखा।

Napharat Ko Mohabbat Kee Aankhon Mein Dekha,
Berukhee Ko Unakee Adaon Mein Dekha,
Aankhen Nam Hueen Aur Main Ro Pada…
Jab Apane Ko Gairon Kee Baahon Mein Dekha.

No comments:

Post a comment