क्रिकेट

क्रिकेट पर निबंध

क्रिकेट की शुरुआत लगभग 16वीं सदी में इंग्लैंड के गांव में खेले जाने वाले किसी आम खेल के रूप में हुए जिस में डंडे की मदद से किसी गेंद को मारा जाता था फिर दौड़कर दूसरी और पहुंचना पड़ता था यहीं से क्रिकेट को बैट और बॉल का खेल कहा जाने लगा था क्योंकि बैट का अंग्रेजी में मतलब डंडा होता है उस समय क्रिकेट में इस्तेमाल होने वाले बेट आज की तरह सीधे नहीं होते थे बल्कि उनका आकार आज की हॉकी स्टिक जैसे होता था जिसका सीधा कारण है कि बोल को फेंकने वाला व्यक्ति उसे जमीन पर लुढ़काते हुए फैकता था और हॉकी जैसे बल्ले की मदद से आसानी से गेंद को लपेट कर दूर फेंका जा सकता था



Cricket
man playing Cricket

क्रिकेट का गांव से संबंध

क्रिकेट का खेल बाकी खेल जैसे हॉकी फुटबॉल बेसबॉल इत्यादि से अत्यंत पुराना है इसी की वजह से क्रिकेट के कुछ रूप जैसे टेस्ट क्रिकेट आज के आधुनिक और भागदौड़ भरी जिंदगी में फिट नहीं बैठते जबकि बाकी खेल जैसे हो कि और फुटबॉल को आसानी से समय निकाल कर देखा जा सकता है फिर उसके बाद व्यक्ति अपने बाकी काम कर सकता है इसकी एक वजह है कि क्रिकेट मुख्य रूप से गांव का खेल था इसका सबसे मुख्य उदाहरण है क्रिकेट के मैदानों का आकार और उसका प्रकार कभी भी एक सा नहीं होता क्रिकेट के कई मैदान बहुत बड़े होते हैं और उन पर लंबे तथा ऊंचे शॉट खेलना काफी कठिन होता है वहीं कुछ मैदानों का आकार छोटा होने की वजह से वह आसानी से बड़े शॉट लगाए जा सकते हैं वहीं क्रिकेट के मैदान पूर्ण रूप से गोल होते हैं तथा कुछ अंडाकार जैसे दिखाई देते हैं अगर इसके पीछे का कारण की बात करें तो यह मुख्य रूप से गांव  में मौजूद अलग-अलग आकार के खेलने की जगह को कहा जा सकता है क्योंकि गांवों में कभी भी खेलते हुए एक समान जगह नहीं मिलती यह उदाहरण स्पष्ट कर देता है कि क्रिकेट का उदय मुख्य रूप से गांव से हुआ था

क्रिकेट के नियमों की शुरुआत

क्रिकेट के नियम और इसकी खेलने की सरचना बाकी खेलों से काफी पहले बनाई गई खासकर अगर उद्योगी क्रांति को मद्देनजर रखा जाए तो क्रिकेट के नियम उससे पहले बनाए और बाकी खेलों के उसके बाद बने इसी की वजह से उनके नियम बनाते हुए समय तथा देश के विकास की तरफ विशेष ध्यान दिया गया ताकि लोग उद्योगों में बिना अपना ध्यान कहीं और गवाही अच्छी तरह काम कर सके सबसे पहले क्रिकेट के नियमों के लिखने की शुरुआत 1744 ही में हुई इसमें खेल के दौरान अवधि का इस्तेमाल करने वाला नियम लाया गया

इसके बाद क्रिकेट के स्टंप के बारे में नियम बनाएंगे अर्थात उनकी ऊंचाई कितनी होगी उन पर लगे गिलियां कितनी चौड़ी तथा कितने इंच की होंगी इसके साथ ही क्रिकेट में इस्तेमाल होने वाली गेंद का वजन कितना होगा तथा बीच की दूरी इत्यादि पर एक समान नियम बनाए गए हालांकि बल्ले के आकार तथा उसके प्रकार पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया गया

क्रिकेट में बोल फेंकने या फिर कहें गेंदबाजी की दृष्टि में सबसे बड़ा बदलाव 1765 के आसपास लाया गया जिसे मैं गेंद को जमीन पर लुठकाने की प्रक्रिया को समाप्त कर दिया गया इसकी जगह अब बोलो गेंद को मैदान पर पटक कर बोल फेंकने लगे इससे कि गेंदबाजों के लिए तरह-तरह के बॉल फेंकने के तरीके सामने आए हैं और गेंदबाज बल्लेबाजों पर पहले से बहुत अधिक भारी पड़ सकते थे और वह गेंद की रफ्तार तथा उसके टप्पे को आसानी से नियंत्रण कर सकते थे इसकी वजह से हॉकी के स्टिक जैसे आकार के बल्ले से गेंद को खेलना काफी कठिन हो गया और यहीं से क्रिकेट बैट का आकार बदल कर सीधा होने की प्रक्रिया शुरू हुई अब बल्लेबाज की बल्लेबाजी उसकी ताकत पर ही नहीं बल्कि उसके शॉट खेलने की सूझबूझ के आधार पर देखे जाने लगे

हालांकि अभी तक बल्ले का कोई नियम ना होने की वजह से काफी क्रिकेटरों ने स्टंप जितनी चौड़ाई के ब्लॉक का इस्तेमाल शुरु कर दिया जिसकी वजह से गेंद का स्टंपर लगना नामुमकिन हो गया इसी को ध्यान में रखते हुए जिसमें बल्लेबाज नियम के अनुसार बल्ले ही इस्तेमाल कर सकते थे ना कि अपने हिसाब से बनाए गए बल्ले.

क्रिकेट में बदलावों का फैसला 19वीं सदी में आकर बहुत तेज हुआ इस दौरान क्रिकेट के अलग-अलग नियम जैसे wide ball यानी अगर कोई बल्लेबाज स्टंप से किसी विशेष दूरी से अधिक पर बोल द्वारा निशाना लगाता है तो उसे wide ball कहा जाएगा इसके अलावा क्रिकेट में इस्तेमाल होने वाली गेंद का व्यास निर्धारित करने का नियम भी आया

क्रिकेट के अन्य नियम जैसे की बाउंड्री अथवा क्रिकेट में इस्तेमाल होने वाले सुरक्षा के उपकरणों का इस्तेमाल की शुरुआत भी 19वीं मैं हुई अब बल्लेबाजों को केवल रन बात कर उसको में इजाफा करने के साथ-साथ बाउंड्री के इस्तेमाल से रन बढ़ाने का भी विकल्प सामने आया

क्रिकेट में शौकिया तथा प्रोफेशनल खिलाड़ी
निबंध का यह हिस्सा जल्द ही जोड़े जाएंगे
क्रिकेट का विस्तार
निबंध का यह हिस्सा जल्द ही जोड़े जाएंगे

क्रिकेट का आधुनिक दौर 

निबंध का यह हिस्सा जल्द ही जोड़े जाएंगे
क्रिकेट का भारत में महत्व
निबंध का यह हिस्सा जल्द ही जोड़े जाएंगे

    No comments:

    Post a comment