मैं दीवाली कैसे मनाता हूं


how to celebrate diwali festival in hindi


दिवाली का त्यौहार बहुत ही मजेदार होता है क्योंकि हमें खाने के लिए तरह-तरह की मिठाइयां और पहनने के लिए नए नए कपड़े मिलते हैं

यही नहीं छुट्टियों के मौसम में परिवार तथा दोस्तों साथ घूमने फिरने का मजा ही अलग होता है,

मैं हमेशा दिवाली  पर खूब मस्ती करता हूं लेकिन अब मैंने दिवाली पर आतिशबाजी करना बन्द कर दिया है

जिसका सुझाव मेरे अध्यापक तथा माता-पिता ने दिया था और मैंने आप इको फ्रेंडली दिवाली बनानी शुरू कर दी है,

इसके लिए सबसे पहले मैं सुबह उठ कर नहा धोकर अपनी बहन के साथ है अपने घर के आंगन में रंगोली बनाता हु जिससे साथ मिलकर काम करने का अनुभव होता है

इसके बाद मैं अपने दोस्तों तथा रिश्तेदारों के घर मिठाइयां लेकर जाता हूं तथा उन्हें दिवाली की बधाई देता हूं

क्योंकि दिवाली के समय सर्दी लगभग शुरू ही हो जाती हैं तो मैं और मेरा दोस्त परिवार से आज्ञा लेकर अपने पुराने कपड़े गरीब  तथा बेसहारा लोगों को दे देते हैं, जिससे उन्हें कुछ मदद मिल सके मैं उन्हें मिठाइयां भी दे कर आता हूं ताकि उन्हे अच्छा महसूस हो ,

इसके बाद घर आते हुए मैं एक पौधा लेकर आया जिसे मैने अपने घर की क्यारी में लगाया ,

पिछले दिवाली पर मैंने एक अमरूद का पेड़ लगाया था जो कि अब फल देना शुरू कर दिया है

शाम के समय में अपने परिवार के साथ बाजार में लगे मेले को देखने जाता हूं जो कि हमारे घर से कुछ ही दूरी पर लगता है वहां पर तरह-तरह के झूले लगे हुए थे,

इसके बाद घर आकर हम माता लक्ष्मी की पूजा करते हैं जिससे कि हमारा मन शांत रहे और हमें सही रास्ते पर चलने की समझ आए,

दिवाली की रात को हम सब पड़ोसी इकट्ठा होते हैं तथा एक दूसरे का हालचाल पूछते पूछते हैं जिससे कि हमारे रिश्ते मजबूत हो ,

हर साल की तरह इस बार भी हम सब ने मिलकर एक आवारा पशुओं की देखभाल करने वाली संस्था को दान दिया, ताकि उनकी भी देखभाल हो सके,

इस तरह मैं अपनी दिवाली बनाता हु तथा इस सुंदर और प्यारी सी दिवाली का सदस्य बन कर आती गर्व महसूस करता हूं
essay on how i we to celebrated Diwali in Hindi

No comments:

Post a comment